Home Meerut जल्द वापिस लौटेंगे युगांडा में फंसे भारतीय, डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के पत्र...

जल्द वापिस लौटेंगे युगांडा में फंसे भारतीय, डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के पत्र पर विदेश मंत्रालय ने शुरू की कवायद

0

– राज्यसभा सांसद डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेयी के पत्र पर विदेश मंत्रालय ने शुरू की कवायद,

– युगांडा में फंसे भारतीयों से मिले भारतीय दूतावास के लोग।


शारदा रिपोर्टर

मेरठ। युगांडा रिपब्लिक के चीनी मिल में नौकरी करने गए सात भारतीयों की जिंदगी संकट में है। उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। वो बेहद तनाव में हैं। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर मदद की गुहार लगाई है। वहीं, इस मामले में राज्यसभा सांसद डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने विदेश मंत्रालय से बातचीत करते हुए सभी भारतीयों को वापिस भेजने की बात कही थी। जिस पर विदेश मंत्रालय ने युगांडा में भारतीय दूतावास के अधिकारियों को वहां फंसे भारतीयों से संपर्क कर उन्हें भारत वापस भिजवाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। माना जा रहा है की 3 दिन के भीतर वहां फंसे सभी साथ तो भारतीय वापस स्वदेश आ जाएंगे।

यह खबर भी बढ़िए-

युगांडा गए भारतीय ने लगाया अत्याचार का आरोप, सरकार से जल्द भारत लौटने की लगाई गुहार, वीडियो वायरल

दरअसल करनावल, हरियाणा, मुजफ्फरनगर, रूड़की, पटना और सहारनपुर से सात भारतीय नौकरी करने के लिए युगांडा रिपब्लिक गए थे। लेकिन इन भारतीय लोगो का आरोप है कि उन्हें प्रताड़ित कर जिंदा भट्टी में झोंकने की धमकी दी जा रही है। जिसके चलते वो इतने तनाव में हैं कि आत्महत्या करने की सोच रहे हैं।

युगांडा में फंसे अशोक शर्मा ने वीडियो बनाकर मदद की गुहार लगाई है। युगांडा रिपब्लिक में फंसे मेरठ के करनवाल गांव के रहने वाले अशोक शर्मा का कहना है कि उन लोगों को इतना प्रताड़ित किया जा रहा है कि जब कोई रास्ता नहीं निकला तो उन्होंने सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर दी। इसके बाद परिवार के लोगों को वीडियो मिली तो उनकी नींद उड़ गई। अशोक ही नहीं बल्कि कई और लोग भी युगांडा में फंसे हैं। परिवार के लोग बेहद परेशान हैं, सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि उनकी मदद की जाए। अशोक की बहन बहुत परेशान है।

दरअसल, विदेश में नौकरी और ज्यादा पैसे के कमाने के लिए मेरठ और कई जिलों के लोग जी एम शुगर लिमिटेड युगांडा में नौकरी करने गए, लेकिन झूठे वादों और लालच में फंस गए।उनके पासपोर्ट भी जब्त कर लिए गए हैं। उन्हें झूठे केस में फंसाने की धमकी दी जा रही है। अशोक के छोटे भाई कंकरखेड़ा इलाके में रहते हैं। उनका कहना है कि हमारा भाई और उनके साथी वापिस आने के लिए परेशान हैं और मदद की गुहार लगा रहे हैं।

वहीं, सोशल मीडिया पर जारी हुए इस वीडियो को देखने के बाद राज्यसभा सांसद डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने सभी भारतीय लोगों को वापिस भेजने के लिए विदेश मंत्रालय से संपर्क किया है। बताया यह भी जा रहा है कि डा लक्ष्मीकांत वाजपेयी की कोशिश रंग लाई है और जल्द ही सभी भारतीय जल्द ही वापिस लौट आएंगे।

यह लोग फंसे हैं युगांडा में अशोक शर्मा के साथ ही मुजफ्फरनगर के योगेश कुमार, सहारनपुर के जसबीर, रुड़की उत्तराखंड के सुखरामपाल, हरियाणा के ऋषिपाल और पटना बिहार के मृत्युंजय कुमार भी फंसे हैं। अशोक के परिजनों ने बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राज्यसभा सांसद डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेयी से गुहार लगाई है। उन्हें युगांडा में फंसे भारतीयों के कागजात भी सौंपे हैं और कहा है कि भारतीयों को बचा लो।

 

यह खबर भी पढ़िए-

युगांडा में फंसे भारतीयों को बुलाएं वापस, डा. लक्ष्मीकांत ने विदेश मंत्री को लिखा पत्र

 

डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने तुरंत ही विदेश मंत्रालय से संपर्क किया और वहां के अफसरों को पूरी कहानी बता दी। राज्यसभा सांसद डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने जल्द से जल्द मदद मांगी है और इस पर विदेश मंत्रालय ने भी संज्ञान लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here