Home Meerut नमो भारत के यात्रियों को मिलेगी विशेष सुविधा, पढ़िए पूरी खबर

नमो भारत के यात्रियों को मिलेगी विशेष सुविधा, पढ़िए पूरी खबर

0
  • कंपनियों से मांगे गए प्रस्ताव,
  • नमो भारत के यात्रियों को स्टेशन से घर तक मिलेगी वाहन सेवा।

शारदा रिपोर्टर

मेरठ। दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर पर दिल्ली से मेरठ के बीच सभी 25 स्टेशनों पर यात्रियों को घरों से लाने और पहुंचाने के लिए फीडर सेवा उपलब्ध होगी।

सभी स्टेशनों पर फीडर बस, कैनब और आॅटो रिक्शा के साथ ही रेंटल दोपहिया वाहन भी उपलब्ध कराए जाएंगे। मोदीनगर, दुहाई से साहिबाबाद के बीच उक्त सुविधा मिल रही है। अब मेरठ के सभी स्टेशनों के लिए एनसीआरटीसी ने कंपनियों से प्रस्ताव मांगे गए हैं।

एनसीआरटीसी के अधिकारियों के अनुसार दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर पर यात्रियों की सुविधा के लिए लास्ट माइल कनेक्टिविटी को बेहतर और सुव्यवस्थित करने के लिए निरंतर फीडर आॅपरेटर्स, कैब, आॅटो रिक्शा और बाइक टैक्सी सेवा प्रदाताओं के संपर्क में है। इन सेवाओं के विस्तार के लिए एनसीआरटीसी ने फिर से बड़े स्तर पर प्रस्ताव मांगे हैं ताकि दिल्ली से लेकर मेरठ तक के सभी 25 स्टेशनों पर उक्त सुविधाएं मिल सके।

सात स्टेशनों पर इलेक्ट्रिक बस की है सुविधा

वर्तमान में साहिबाबाद से लेकर मोदी नगर नॉर्थ तक 34 किमी के सेक्शन में नमो भारत ट्रेनों का संचालन जारी है। इस सेक्शन में आने वाले स्टेशनों पर यात्रियों की सुविधा के लिए एनसीआरटीसी ने गाजियाबाद सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेस लिमिटेड की इलेक्ट्रिक बसों को उपलब्ध कराया है, जिसके अंतर्गत साहिबाबाद, गाजियाबाद, डीपीएस राजनगर गुलधर, दुहाई, मुराद नगर, मोदी नगर साउथ और मोदी नगर नॉर्थ स्टेशनों पर अलग-अलग 7 रूटों पर इलेक्ट्रिक बसें लोगों को लास्ट माइल कनेक्टिविटी प्रदान कर रही है।

साइकिल की सुविधा भी उपलब्ध होगी

एनसीआरटीसी के अनुसार स्टेशनों के आसपास यात्रियों के अल्प अवधि वाले कार्यों को पूरा करवाने में मदद के लिए रेंटल दोपहिया वाहनों और रेंटल साइकिल की भी व्यवस्था होगी। यात्री घंटों के हिसाब से भुगतान करके इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे और कार्य समाप्त होने पर वाहन या साइकिल को वापस स्टेशनों में बने वाहन/साइकिल पॉइंट पर खड़ा करके नमो भारत ट्रेनों से आगे की यात्रा कर सकेंगे। एनसीआरटीसी के इन प्रयासों से एक बेहतर और फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट सिस्टम तैयार होगा, जिससे प्रदूषण में तो कमी आएगी ही, साथ ही सड़क पर होने वाली दुर्घटनाओं में भी कमी लायी जा सकेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here