Home Meerut इसे लापरवाही कहें या दुर्भाग्य !

इसे लापरवाही कहें या दुर्भाग्य !

0

Loading

इसे लापरवाही कहें या दुर्भाग्य !

 

  •  राली चौहान गांव के छह लोगो की करंट लगने से हुई थी मौत।

  • 26.5 फीट ऊंची कांवड़ और हाई टेंशन लाइन में था कम फासला

 



 

शारदा न्यूज़, संवाददाता |

मेरठ। भावनपुर थाना क्षेत्र के राली चौहान गांव के कांवड़ लेने गए पच्चीस लोगो के ग्रुप का अपने गांव पहुंचने से पहले एक भीषण हादसे से सामना हो गया था। गांव के नजदीक हाई टेंशन लाइन से टकराने से छह लोगो की मौत हो गई थी और डेढ़ दर्जन लोग घायल हुए थे, रविवार को प्रशासन ने मारे गए लोगो के पोस्टमार्टम कराया और परिजनों को सौंप दिया। वही आरोपियों के खिलाफ कारवाई और मुआवजे की मांग को लेकर रात भर चला रास्ता जाम सुबह दस बजे पुलिस की सख्ती के बाद खुल गया।

 

 

बता दें राली चौहान गांव में रात लोगो को आंसुओं में कटी और हर कोई अपने लाडले के शव का इंतजार करने में लगा रहा। वही गांव की महिलाएं और युवक पूरी रात किला रोड पर जाम लगा कर बैठे रहे।

 

सुबह होते ही डीएम दीपक मीणा और तमाम मजिस्ट्रेट के अलावा पुलिस के आला अधिकारी भी लोगो को समझाने में लगे रहे लेकिन ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे।

हर कोई आरोपी जेई को बुलाने की मांग कर रहा था। दस बजे के करीब अधिकारियों से बातचीत के बाद धरना और जाम खुल गया।

 

 

ग्रामीणों का कहना है कि कांवड़ 26..5 फीट ऊंची थी और आराम से आ रही थी लेकिन गांव के संपर्क मार्ग पर आते ही हाई टेंशन लाइन के संपर्क में आ गई और हादसे का शिकार हो गई।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here