Home CRIME NEWS मेरठ में 5.50 लाख की सुपारी देकर बेटे ने ही पिता पर...

मेरठ में 5.50 लाख की सुपारी देकर बेटे ने ही पिता पर कराया था जानलेवा हमला, आरोपी गिरफ्तार, पढ़िए पूरी खबर

0

Loading

  • बेटे ने 5.50 लाख की दी थी हत्या की सुपारी,

  • कहा- पिता दूसरी महिला पर उड़ते थे रुपए,

  • बेइज्जती के चलते रास्ते से हटाना चाहता था।


शारदा न्यूज़, संवाददाता |


मेरठ। स्क्रैप कारोबारी को बदमाशों ने दिन दहाड़े गोली मार दी थी। 15 अगस्त पर हाई अलर्ट होने के बावजूद बदमाश वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए थे। पुलिस ने CDRऔर CCTV की मदद से आरोपियों की पहचान की थी। इसके बाद 24 अगस्त को मुठभेड़ में कासिफ उर्फ कीड़ा को पकड़ा था। पुलिस को कासिफ ने बताया था कि जान के कहने पर कारोबारी हाजी जलालुद्दीन को गोली मारी थी। इसके बाद पुलिस ने जान को गिरफ्तार कर थाने ले आई। जहां जान से कड़ाई से पूछताछ की। पहले तो जान ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की। सिर्फ सिर हिलाकर हां और ना में जवाब देता रहा। लेकिन पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ शुरू की। तो उसने बताया कि कारोबारी के बेटे सैफ ने 5.50 लाख में पिता को मारने की सुपारी दी थी। इसके बाद मैंने कासिफ और नफीस से सौदा तय किया था। इसके बाद पुलिस ने कारोबारी के बेटे को हिरासत में लेकर पूछताछ की।

 

पूछताछ मे पुलिस को कारोबारी के बेटे सैफ ने बताया कि पिता का लिसाड़ी गेट की रहने वाली एक महिला के घर आना जाता था। कारोबार से जो इनकम होता वह पैसा महिला पर खर्च करते थे। पिता महिला के बेटे से मेरी बहन की शादी करना चाहते थे। इस बात को लेकर हर दिन घर में विवाद होता था। समाज में मेरी बेइज्जती हो रही थी। इसी वजह से मैंने पिता को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया। इसके लिए 5.50 लाख में जान से सौदा तय किया था। जान को मैंने पहले 3.30 लाख दे दिए थे। बाकी के पैसे काम होने के बाद देना था।

 

आपको बता दे 24 अगस्त को पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान कासिफ को गोली मारकर पकड़ा था।

लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र की गली नंबर-29 निवासी स्क्रैप कारोबारी जलालुद्दीन (55) की खैरनगर में दुकान हैं। जहां पुराना तांबा व पीतल खरीदने का काम करते हैं। जलालुद्दीन के बड़े भाई हाजी बिलाल का पत्नी नाजमा से विवाद चल रहा था। 4 मई 2022 में बिलाल की हत्या गाजियाबाद के लोनी में हो गई थी। जिसमें नाजमा के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था। इसके बाद पुलिस ने नाजमा को जेल भेज दिया था। बिलाल की हत्या में जलालुद्दीन और उसका भाई ग्यासुद्दीन पैरवी कर रहे हैं।

दरअसल पूरा मामला 15 अगस्त को जलालुद्दीन अपने दूसरे मकान इंचौली के कुआं पट्टी गए थे। वहां से वापस लौटते समय सिविल लाइन थाना क्षेत्र के भगत लाइन के पास बाइक पर आए दो बदमाशों ने जलालुद्दीन को पीछे से 5 गोली मारी थी। पुलिस ने आनन-फानन में घायल को जसवंत राय हॉस्पिटल में भर्ती कर दिया था। मामले में कारोबारी के बेटे ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। तभी से पुलिस आस-पास लगे CDRऔर CCTV की मदद से हमलावरों की तलाश कर रही थी। CCTV की मदद से सिविल लाइन थाना पुलिस ने हमलावर को 24 अगस्त को मुखबिर की सूचना पर घेराबंदी कर सुपारी किलर कासिफ को गिरफ्तार कर लिया था।

इस पूरे मामले पर एसपी सिटी पीयूष सिंह ने बताया कि स्क्रैप कारोबारी को बदमाशों ने 15 अगस्त को गोली मारकर फरार हो गए थे। व्यापारी का इलाज चल रहा था। अब व्यापारी खतरे से बाहर है। जांच के बाद 24 अगस्त को कासिफ कीड़ा को मुठभेड़ में पकड़ा गया था। कासिफ से पूछताछ के बाद बेटे सैफ उसके साथी को भी पकड़ लिया गया है। शूटर नफीस की तलाश की जारी है। जल्द ही शूटर को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

 

यह खबर भी पढ़िए-

https://shardaexpress.com/crime-news/big-news-meerut-scrap-trader-gunned-down-in-broad-daylight-bike-rider-assailant-absconding/

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here