Home Meerut डी फार्मा प्रवेश के नाम पर लाखों रुपये ठगी का आरोप, छात्रों...

डी फार्मा प्रवेश के नाम पर लाखों रुपये ठगी का आरोप, छात्रों ने हंगामा कर कार्रवाई की मांग की

0
  • छात्रों ने कमिश्नर कार्यालय के सामने किया हंगामा,
  • संस्थान संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग।

शारदा रिपोर्टर मेरठ। एक शिक्षण संस्थान द्वारा डी फार्मा में प्रवेश के नाम पर छात्रों से लाखों रुपये की ठगी का आरोप लगाते हुए छात्रों ने जमकर हंगामा किया। कमिश्नर कार्यालय के सामने हंगामा करते हुए छात्र कलक्ट्रेट पहुंचे और जिलाधिकारी दिए शिकायती पत्र में कार्रवाई की मांग की।

सपा छात्र सभा के महानगर अध्यक्ष हैविन खान के नेतृत्व में पहुंचे छात्रों ने बताया कि ट्रांसलम इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट कॉलिज रजपुरा मवाना रोड़ मेरठ, को बोर्ड आॅफ टेक्नीकल एजूकेशन लखनऊ के द्वारा डी फार्मा कोर्स में काउंसलिंग के द्वारा केवल 30 सीट पर प्रवेश लेने की अनुमति है। लेकिन महाविद्यालय ने फर्जी तरीके से 30 सीट पर 52 छात्रों के प्रवेश किये है एवं सभी छात्रों के फर्जी तरीके से समाज कल्याण के छात्रवृत्ति के फार्म भी भरवा दिये गये है। जोकि महाविद्यालय द्वारा एक बहुत बड़ा घोटाला है।

छात्रों ने बताया कि वो 22 छात्र ट्रांसलम इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट कॉलिज रजपुरा मवाना रोड़ मेरठ में डी फार्मा के प्रथम वर्ष के छात्र है। आज से हमारी वार्षिक परीक्षाएँ शुरू हो गयी हैं, जब हम सभी 22 छात्र अपना प्रवेश पत्र लेने कल महाविद्यालय पहुंचे तो वहाँ जाकर पता लगा कि महाविद्यालय ने बोर्ड आॅफ टेक्नीकल एजूकेशन लखनऊ से हमारे परीक्षा फार्म ही नही भरवाये हैं। उसके बाद हम सभी छात्रों ने ट्रांसलम इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट कॉलिज रजपुरा मवाना रोड़ मेरठ डायरेक्टर डॉ शमीम अहमद के आॅफिस पहुंचकर उनसे बात करने कोशिश की, तो वह सभी छात्रों को चकमा देकर फरार हो गये।

छात्रों ने बताया कि उसके बाद उन्हें आभास हुआ कि महाविद्यालय और डायरेक्टर के द्वारा हम सभी 22 छात्रों से लाखों रूपयों की ठगी की गई है, हम सभी 22 छात्रों ने महाविद्यालय में 70 हजार रुपए प्रथम वर्ष की फीस जमा कर रखी है एवं पुरे वर्ष महाविद्यालय में आकर सुचारू रूप से पूर्ण पढ़ाई की है। महाविद्यालय और डायरेक्टर डॉ शमीम अहमद ने हमारे भविष्य को अंधकार में डालकर हमारे भविष्य के साथ खिलवाड किया है।

पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराकर उक्त कॉलिज प्रशासन एवं डायरेक्ट डॉ शमीम अहमद पर मुकदमा पंजीकृत कर रिपोर्ट दर्ज कराया जाए। रोहन राय, जीशान, अब्दुल समद, मौ वली, नितिन पाल, अब्दुल हनान, मौ. आमिर, अंकित, अनस, सलीम राजा, अजय सिसोदिया, स्वाती सैनी, अभय तनेजा, आकिब, संजय गोयल, अभय कुमार, वारिफ दिवाकर, जुनैद खान, राजेश बक्सी, संजय कुमार, रजनीश कुमार, नितेश सिसोदिया आदि रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here