Home mauke kee najaakat शाबाश नीरज चोपड़ा

शाबाश नीरज चोपड़ा

0

Loading

 

  • देश के लिए वर्ल्ड चैंपियनशिप में जीता मेडल।

  • जेवलिन थ्रो में जीता गोल्ड मेडल।


Editor Gyan Prakash
  – ज्ञान प्रकाश, संपादक

 


एक बार फिर नीरज चोपड़ा ने देश का नाम रोशन कर दिया। इस बार नीरज ने हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट में गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास रच दिया। इससे पहले 2003 में पेरिस में हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप में लॉन्ग जंप में अंजू बॉबी जार्ज ने कांस्य पदक जीता था। नीरज चोपड़ा ने ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता था।

नीरज चोपड़ा एक साथ ओलिंपिक और वर्ल्ड चैंपियनशिप दोनों का गोल्ड जीतने वाले पहले भारतीय एथलीट बन गए हैं। उन्होंने 2021 में हुए टोक्यो ओलिंपिक में गोल्ड जीता था। भारत ओलिंपिक में साल 1900 से शिरकत कर रहा है, लेकिन ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स में नीरज से पहले किसी भारतीय ने पदक नही जीता था। नीरज से पहले मिल्खा सिंह ओलंपिक में पदक जीतने के करीब पहुंच गए थे। वही नीरज चोपड़ा ने हंगरी में गोल्ड मेडल जीतने के लिए पाकिस्तान के नदीम से कड़ी चुनौती मिली थी। हालांकि नदीम कभी नीरज से आगे नहीं निकल सके। नीरज ने जैसे ही गोल्ड मेडल जीता देश में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीरज चोपड़ा को बधाई दी

नीरज चोपड़ा ट्रैक और फील्ड एथलीट प्रतिस्पर्धा में भाला फेंकने वाले खिलाड़ी हैं। नीरज ने 87.58 मीटर भाला फेंककर टोक्यो ओलंपिक 2021 में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है |अभिनव बिंद्रा के बाद किसी विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक को जीतने वाले वह दूसरे भारतीय हैं।

 

 

 

इसके अलावा दो अन्य भारतीयों, किशोर जेना 7 और डीपी मनु ने भी बड़े मंच पर प्रभावित किया। हालांकि वे पोडियम पर नहीं पहुंच पाए, जेना 84.77 मीटर (उनका व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ) के साथ पांचवें स्थान पर रहे, जबकि मनु अपने सर्वश्रेष्ठ 84.14 मीटर के साथ छठे स्थान पर रहे।

दुनिया नीरज के गोल्डन सेट में टिकने का इंतज़ार कर रहा था, और उन्होंने इसे स्टाइल में हासिल भी किया। वास्तव में, दूसरा थ्रो फ़ाउल लाइन से कुछ मीटर पीछे फेंका गया था, और इसमें कुछ और जोड़ने की गुंजाइश थी। 25 वर्षीय (2021 में टोक्यो), एशियाई खेल (2018) और चैंपियनशिप (2016), डायमंड के अलावा कई पदक जीते हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here