Home Education News मेरठ: जिला कारागार से शिक्षा की क्रांति की शुरुआत

मेरठ: जिला कारागार से शिक्षा की क्रांति की शुरुआत

0

Loading

मेरठ: जिला कारागार से शिक्षा की क्रांति की शुरुआत


शारदा न्यूज़, संवाददाता |


मेरठ। उत्तर प्रदेश का मेरठ वह स्थान है जहां से क्रांति की शुरुआत हुई थी। लेकिन अब मेरठ के जिला कारागार से शिक्षा की क्रांति की शुरुआत हुई है। महिला बंदियों के मासूम बच्चे भी अब अन्य बच्चों की तरह इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़ सकेंगे। जेल प्रशासन ने जेल में बंद सात महिला बंदियों के छोटे सात बच्चों का शिक्षा के अधिकार के तहत इंग्लिश मीडियम स्कूल में दाखिला कराया है। वहां पर बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जाएगी। इसके लिए कुछ सामाजिक संगठन भी आगे आए हैं। बच्चों को स्कूल ले जाने व छोड़ने के लिए जेल प्रशासन की वैन भी लगाई गई है।

 

दरअसल बता दें जेल परिसर में सात महिला बंदियों के छोटे- छोटे बच्चे साथ में निवास कर रहे हैं। वह कई दिनों से स्कूल जाने की जिद कर रहे थे। इसी दौरान बैरक में घूम रहे जेल अधीक्षक ने एक मासूम बच्चे को अपनी मां से स्कूल जाने की जिद करते देख लिया। जिससे उनका दिल पसीज गया। उन्होंने जेल में रहने वाले सभी बच्चों को स्कूल भेजने की योजना तैयार की।

 

इसी के तहत उन्होंने इस बारे में डीएम दीपक मीणा से बात की। शिक्षा के अधिकार के तहत इन बच्चों को निशुल्क शिक्षा दिलाने का प्रयास किया गया है। सभी बच्चों का निशुल्क एडमिशन साकेत पब्लिक स्कूल में कराया गया। उनकी माने तो बच्चे मजबूरी के कारण जेल में रह रहे हैं,उन्हें शिक्षा से दूर नहीं रखा जा सकता है। उनका प्रयास रहेगा कि जेल में बंद महिलाओं के बच्चे पढ़ लिख कर उच्चपदों पर जाएं, जो समाज ही नहीं देश के लिए भी गौरव की बात होगी।जेल अधीक्षक शशिकांत मिश्रा ने बताया कि इन बच्‍चों की ड्रेस, कापी-किताब की व्‍यवस्‍था व्‍यवसायी व स्‍वयंसेवी ने की है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here