Home Meerut रहना सात समुंदर पार, पेड़ों से मौहब्बत मेरठ में

रहना सात समुंदर पार, पेड़ों से मौहब्बत मेरठ में

0
  • साकेत में पेड़ लगाने का अभियान शुरु किया।

ज्ञान प्रकाश, मेरठ। भले ही 45 साल पहले मेरठ छोड़कर अमेरिका बस गई हो लेकिन मेरठ की धरती उनके दिल और दिमाग में बसी हुई है। बचपन से हरियाली जो दिल में बसी वो आज भी बरकरार है। अमेरिका में रहने वाली कुहू गोयल इस वक्त मेरठ में पौधरोपण को लेकर गंभीर है। सोमवार को शहर के पॉश इलाके साकेत में दस बड़े पेड़ गुलमोहर, अमलताश आदि लगा कर अभियान की शुरुआत कर दी है।

कुहू गोयल के इस अभियान को आज साकार करने में वन विभाग के दारोगा गुलशन कुमार, मोहन सिंह, साकेत के पार्षद रचित गुलाटी और साकेत हाऊसिंग सोसायटी ने सहयोग किया। कुहू गोयल ने बताया कि चालीस साल पहले साकेत में गुलमोहर और अमलताश के पेड़ों की भरमार थी लेकिन अब सब गायब होते जा रहे हैं। बताया कि उनके मन में वृक्षारोपण को लेकर बचपन से चाह थी। बुढ़ानागेट में मौसाजी सुरेश शर्मा ने पेड़ पौधों के प्रति मन में मौहब्बत पैदा कर दी थी। यही कारण है कि अमेरिका में भी पेड़ लगाने का अभियान चलाया हुआ है। इसमें पति जैफ का बहुत बड़ा योगदान है।

बताया कि उनकी योजना है कि हर मौहल्ले में दस दस बड़े पेड़ लगाए जाएंगे। इसके लिये शाहजहांपुर स्थित नर्सरी से परिपक्व पेड़ लाकर लगाए जा रहे हैं। इनके अलावा कोठी बनाने के लिये पेड़ काटे जा रहे हैं उनको बचाने का भी प्रयास किया जाता है। साकेत में गोल मार्केट के पास चले अभियान को लोगों ने सराहा भी। मैकेनिकल इंजीनियर रहे दर्शन लाल गोयल की प्रतिभाशाली बेटी कुहू गोयल के मन में शहर को हरा भरा करने की तमाम योजनाएं मन में है और उनको अमलीजामा पहनाने के लिये प्रयासरत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here