Home Education News हिंदी दिवस विशेष: प्रो. संजीव शर्मा ने कहा जबतक जरूरी न हों...

हिंदी दिवस विशेष: प्रो. संजीव शर्मा ने कहा जबतक जरूरी न हों अंग्रेजी न बोले

0

Loading

 


शारदा न्यूज रिपोर्टर

मेरठ। चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी में विश्व हिंदी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान हिंदी को लेकर छात्रों को जागरूक किया गया। बताया गया कि हम भाषा को कहाँ तक पहुंचा सकते हैं इस पर चर्चा होनी चाहिए। विवि विद्यार्थियों से है और विद्यार्थियों से ही आगे बढ़ेगा। यह बात सीसीएसयू में विश्व हिंदी दिवस पर हिंदी भाषा एवं सूचना प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग विषय पर हुई संगोष्ठी में कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने कही। इस दौरान शिक्षा सत्र 2022-23 के एमए हिंदी में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने पर श्वेता डीजे कॉलेज बड़ौत तथा शिवानी जैन सेंट जोसेफ गर्ल्स डिग्री कॉलेज सरधना को यूको राजभाषा सम्मान से पुरस्कृत किया गया।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि निदेशक एकेडमिक प्रो. संजीव शर्मा ने कहा जब तक जरूरी न हो तब तक अंग्रेजी नहीं बोलनी चाहिए। हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो. नवीन चन्द्र लोहनी ने कहा कि अनेक भाषाओं को एक सूत्र में बांधने का कार्य हिंदी करती है। सरलीकरण के नाम पर भाषा की दुर्गति मत कीजिए। अपनी भाषा हिंदी को श्रेष्ठ एवं आदर्श बनाएं। डॉ. राकेश बी. दुबे वरिष्ठ सलाहकार ने कहा हिंदी पूरे देश की जनता के साथ ही नहीं बल्कि पूरे स्वाधीनता आंदोलन का साधन बनी। हिंदी भाषियों को चाहिए कि अन्य भाषा का भी सम्मान करें। इस दौरान यूको बैंक की सहायक महाप्रबंधक रूचि अग्रवाल ने विद्यार्थियों को दिए जा रहे शिक्षा ऋण एवं अन्य योजना की जानकारी भी दी। प्रतिभा रतन वरिष्ठ प्रबंधक यूको बैंक ने कहा कि उनका बैंक अपनी भाषा का सम्मान करता है। इस दौरान यूको राजभाषा सम्मान का प्रथम पुरस्कार श्वेता डीजे कॉलेज बड़ौत व द्वितीय पुरस्कार शिवानी जैन सेंट जोसेफ गर्ल्स डिग्री कॉलेज सरधना को मिला।

इस दौरान डॉ. महेश पालीवाल, डॉ. प्रवीण कटारिया, डॉ. यज्ञेश कुमार, डॉ. विद्यासागर सिंह, विनय कुमार, पूजा यादव, अरशदा रिजवी आदि मौजूद रहे। डॉ. अंजू सहायक आचार्य ने धन्यवाद दिया। संचालन डॉ. आरती राणा सहायक आचार्य ने किया। सहायक निदेशक राजभाषा मोहन बहुगुणा ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here